Browsing: संग्रामसिंह सोढा कृत

कीरत चावी कच्छ री(१) -संग्राम सिंह सोढा कृत डिंगळ काव्य में पैलीपोत सुधी पाठकां सारू कच्छ री ऐतिहासिक,सांस्कृतिक,भौगोलिक,प्राकृतिक छटा रौ…

सोढाण रा स्वतन्त्रता सैनानी ~******************** सिद्ध जिद्द सैनाणियां ,हद राखी हिंदवाण। धड़ रहतां नह दी धरा ,सो धरती सोढाण।।1।। गोरां…

अमरकोट री कीरत रा आखर ********************* अमराणो अमरापुरी, धरा सुरंगी धाट। राजै सोढा राजवी, पह परमारां पाट।। बड़ लांबा घण…

सोढाण री देवियां अर सतियां ~~~~~~~~~~~~~~~~~       आवड़ एथ ज अवतरी,दुख काटण दुनियाण। समद हाकड़ो सोखणी,सो धरती सोढाण।।1।। हिंगळा प्रगटी एथ…